सि‍नेमा

फिल्म समीक्षा: 'मशीन' देखने के लिए दिल-दिमाग घर रख जाएं

By haribhoomi.com | Mar 17, 2017 |
title=
नई दिल्ली. अब्बसा मस्तान के बेटे मुस्तफा को लॉन्च करने के लिए बनाई गई फिल्म मशीन आज से सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। आईए फिल्म समीक्षा से जानते है फिल्म की गहराईयों के बारें में... 
 
फिल्म - मशीन 
स्टारकास्ट - मुस्तफा बर्मनवाला, कियारा आडवाणी, रोनित रॉय
डायरेक्टर - अब्बास-मस्तान 
प्रोड्यूसर - जयंतीलाल गादा, हरेश पटेल (AD FILMS)प्रणय चोकसी, अब्बास-मस्तान फिल्म प्रोडक्शन, धवल जयंती लालगादा 
लेखक - संजीव कौल 
शानदार पॉइंट -खूबसूरत लोकेशन 
निगेटिव पॉइंट - परफॉर्मेंस, प्लॉट, डायलोग और बाकी सबकुछ
कहानी-
 
फिल्म की शुरूआत उत्तर भारत से की गई है जहां सारा थापर (कियारा आडवानी) एक अनाथालाय में चैरिटी करती है। अगले ही पल कार दौ़ड़ाते नजर आती हैं। एक जगह पर कार फिसल जाती है और अपने साथ साथ एक दूसरी कार का भी एक्सिडेंट होने से बचाती है। ऐसे उसकी मुलाकात रंश (मुस्तफा) से होती है। उनकी अगली मुलाकात एक कार रेसिंग में होती है जिसमें दोनों हिस्सा लेते हैं और बाजीगर स्टाइल में रंश जीत भी जाता है। सारा उससे इसका राज पूछती है और रंश का डायलोग होता "मैं ब्रेक पर पांव नहीं रखता ..क्योंकि मुझे मौत से डर नहीं लगता"..
 
फिल्म में स्टॉकर, रोमियो-जुलियट नाटक, गाने, रंग बिरंगे कपड़े देखेंगे। सारा के पापा (रोनित रॉय) की हामी के बाद जल्दी ही दोनों शादी कर लेते हैं। शादी शुदा ये जोड़ा हनीमून पर जाता है। रोमांटिक गाना होता है, दोनों के रोमांटिक सीन होता है और अचानक रंश सारा को पहाड़ की उच्चाईयों से धक्का दे देता है। रंश के क्या इरादे हैं और उसके क्राइम करने के पीछे क्या कारण होता है यह जानने के लिए थिएटर जाएं...
 
डायरेक्शन-
थ्रिलर फिल्मों के लिए मशहूर अब्बास मस्तान की ये फिल्म देखकर आपको थोड़ा दुख भी होगा। फिल्म के कुछ बोझिल डायलोग जैसे मैं तुम्हारे होठों की लिपस्टिक तो खराब करूंगा लेकिन तुम्हारे आंखो का काजल कभी नहीं" और "5 मिनट के लिए किसी का फोन मिल जाए तो उसकी जात, पात, औकात सब पता चल जाती है।" फिल्म का एक और डायलोग है "First Love burns the Brightest"। सुनकर आपको लगेगा ये बस फेसबुक पोस्ट हैं।
 
इस फिल्म को मुस्तफा को लॉन्च करने के लिए बनाया गया है। मुस्तफा की कोशिश पूरी फिल्म में दिखी है कि उन्होंने फिल्म को डूबने से बचाने के लिए पूरी मेहनत की है लेकिन वो अपने कैरेक्टर के साथ कनेक्ट नहीं कर पाते। उनकी एक्टिंग भी कुछ खास कमाल की नहीं है। कियारा आडवाणी पूरी फिल्म में गाउन, ड्रेस, आई लैश और खूबसूरत दिखने पर ध्यान दी हैं। एहसान शंकर और कार्ला डेनिस ने भी अपना काम अच्छे से किया है लेकिन तारीफ रोनित रॉय की करनी होगी जिन्होंने फिल्म को संभालने की कोशिश है। कॉमेडी और पंच से फिल्म में ह्युमर देने के लिए जॉनी लीवर भी हैं।
 
म्यूजिक-
पता नहीं बॉलीवुड कब पुराने गानों के साथ खिलवाड़ करना बंद करेगा? 'एक चतुर नार' या 'तू चीज बड़ी है मस्त मस्त' सुनकर आप म्यूजिकल कोमा में चले जाएंगे।
 
क्यों देखें-
हम आपको सलाह देंगे अगर आप मशीन देखने की सोच रहे हैं अपने दिल,दिमाग साइड रख दें। फिल्म का नाम मशीन क्यों है ये भी हम नहीं समझ पाएं। फिल्म नहीं देखने वाले अक्षय-रवीना की तू चीज बड़ी है मस्त मस्त याद रखें तो बेहतर होगा। 
 
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
  • Post a comment
  • Name *
  • Email address *

  • Comments *
  • Security Code *
  • CYTIS
  •       
    कमेंट्स कैसे लिखें !
    जिन पाठकों को हिन्दी में टाइप करना आता है, वे युनीकोड मंगल फोंट एक्टिव कर हिन्दी में सीधे टाइप कर सकते हैं। जिन्हें हिन्दी में टाइप करना नहीं आता वे Roman Hindi यानी कीबोर्ड के अंग्रेजी अक्षरों की मदद से भी हिन्दी में टाइप कर सकते हैं। उदाहरण के लिए यदि आप लिखना चाहें- “भारत डिफेंस कवच एक उपयोगी पोर्टल है’, तो अंग्रेजी कीबोर्ड से टाइप करें, bharat defence kavach ek upyogi portal hai. हर शब्द के बाद स्पेस बार दबाएंगे तो अंग्रेजी का अक्षर हिन्दी में टाइप होता चला जाएगा। यदि आप अंग्रेजी में अपने विचार टाइप करना चाहें तो वह विकल्प भी है।
    Haribhoomi
    Haribhoomi on Social Media
    फिल्म साइन करने से पहले बॉलीवुड स्टार्स की होती हैं ये शर्तें

    फिल्म साइन करने से पहले बॉलीवुड स्टार्स ...

    हर स्टार फिल्म साइन करते समय प्रोड्यूसर-डायरेक्टर के सामने कुछ शर्तें रखता है, ...

    ऐसा झटका, कहीं अपना मानसिक संतुलन न खो दें गोविंदा

    ऐसा झटका, कहीं अपना मानसिक संतुलन न खो ...

    फिल्म का बजट 22 करोड़ था लेकिन फिल्म ने दो दिनों में 50 लाख का कलेक्शन किया है।

    सिंगर अभिजीत ने कहा- तीनों खान हैं देशद्रोही, फिल्मों में बजावा रहे हैं मौला-मौला

    सिंगर अभिजीत ने कहा- तीनों खान हैं ...

    अभिजीत ने आगे कहा कि शिरीष जान बूझकर सिर्फ हिन्दुओं को ही टार्गेट करते हैं।